रविवार, 21 मई 2017

परवाह का आँचल !!!

माँ होती है 
एक साया आसमान जैसे 
कहीं भी रहो
उसकी परवाह का आँचल 
सदा साथ रहता है !!

1 टिप्पणी:

  1. sach ---agar maa ---maa ki bhumika nibha le to uski ladli par koi aanch nahi aa sakti --bhurn hatya nahi ho sakti --bahut sundar abhiwayakti ---

    उत्तर देंहटाएं